Thursday , June 20 2019

अखिलेश- माया तो छोडि़ए, राजनाथ- कल्‍याण भी नहीं कर पाए ये काम, अब योगी बोले- मैं आ रहा हूं

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए पूरे पांच साल तक नोएडा में कदम रखने की हिम्‍मत तक नहीं जुटा पाए। दरअसल यूपी की सियासत में ये भ्रम है कि सत्ता में रहते हुए जिस सीएम के कदम नोएडा में पड़े, वो दोबारा सत्ता में वापसी नहीं कर सका। अखिलेश से लेकर मायावती तक इसी भ्रम में पड़ी रहीं और नोएडा में मुख्यमंत्री रहते हुए कदम तक नहीं रखा।

Also Read : योगी आदित्‍यनाथ ने ले लिया वो फैसला, जा सकती है उनकी ही सीएम की कुर्सी

वहीं अब उत्तर प्रदेश के मौजूदा सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस अंधविश्वास को धता बताते हुए नोएडा आने का फैसला किया है। योगी आदित्यनाथ 25 दिसंबर को नोएडा पहुंच रहे हैं। यहां वे मेट्रो को हरी झंडी दिखाएंगे। ये मेट्रो नोएडा के बोटेनिकल गार्डन से दिल्ली के कालका जी तक जाएगी। दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस नई मेट्रो लाइन के उद्घाटन समारोह में शामिल होंगे।

बता दें कि अखिलेश से लेकर मायावती और मुलायम सिंह तक ने इस अंधविश्वास को तोड़ने की जहमत नहीं दिखाई। इतना ही नहीं, बीजेपी नेता राजनाथ सिंह और कल्याण सिंह ने भी यूपी के मुख्यमंत्री रहने के दौरान इस अंधविश्वास में फंसे रहे और नोएडा में कदम तक नहीं रखा।

Also Read : जेटली ने खुद दिए सबसे बड़े संकेत, अब 38 से 40 रुपए में मिलेगा पेट्रोल

इसी टोटके के डर से तमाम मुख्यमंत्री नोएडा आने से कतराते रहे। हालांकि, इस बार अखिलेश ने वादा किया कि अगर 2017 में उनकी सरकार बनती है तो वो नोएडा जरूर आएंगे। लेकिन सीएम अपने वादे पर खरे नहीं उतर सके हैं।

उन्होंने पांच साल तक सत्ता में रहते हुए एक बार भी नोएडा में कदम नहीं रखा। इसके बावजूद 2017 के विधानसभा चुनाव में वो अपनी सत्ता को बरकरार नहीं रख सके हैं। मायावती 2007 से 2012 तक उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रहीं। लेकिन इन पांच सालों में मायावती ने भी नोएडा में कदम तक नहीं रखा। जबकि ग्रेटर नोएडा के दादरी के पास उनका पैतृक गांव है।

Also Read : ज्‍योतिषियों ने किया सबसे बड़ा दावा, साल 2018 में मोदी के साथ होने जा रहा है ये

इसके बावजूद वे नहीं आई। इतना ही नहीं, उन्होंने अपने कार्यकाल में नोएडा को सजाने सँवारने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी। अंबेडकर पार्क से लेकर नोएडा एक्सप्रेस वे भी बनवाया।  हालांकि, एक बार मायावती यहां आई थी, लेकिन उनकी सत्ता चली गई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ दोनों नोएडा आ रहे हैं। अब देखना होगा कि क्या यह अंधविश्वास महज एक भ्रम रह जाता है या सच साबित होगा।

loading...