Tuesday , September 17 2019

अगर आप भी हैं क्रिकेट प्रेमी तो भारतीय क्रिकेट के ये 10 इत्‍तेफाक कभी नहीं भूल पाएंगे

क्रिकेट एक ऐसा खेल है जो ज्यादातर भारतीयों की रगों में दौड़ता है। शायद यही वजह है कि इसे भारत में धर्म कहा जाता है। मैदान पर सिर्फ 11 लोगों की टीम होती है मगर हार और जीत एक अरब से ज्यादा भारतीयों की होती है। टीम इंडिया के हर चौके और छक्के पर पूरे देश को ख़ुशी होती है और हर विकेट पर गम। क्रिकेट मैच में कई ऐसे मौके भी आते हैं जब मैच देखते-देखते हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं। क्रिकेट मैच की हर बॉल पर रोमांच होता है, क्योंकि कौन सी बॉल पर क्या हो जाए, ये कोई भी नहीं जानता। आज इसी रोमांच से भरे खेल और टीम इंडिया से जुड़े कुछ मजेदार इत्तेफाक हम आपको बताने जा रहे हैं। अगर आप भी क्रिकेट प्रेमी हैं तो ये फैक्ट्स आपको जरूर रोमांचित करेंगे।

सचिन और कोहली

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली की तुलना सचिन तेंदुलकर से अक्सर की जाती है। उनके कई ऐसे रिकार्ड्स हैं जो दोनों को एक जैसा बनाते हैं। 28 दिसंबर, 1999 को सचिन ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ, पांचवें टेस्ट मैच में, मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर उन्नीसवीं पारी में 1,000 रन पूरे किए थे। सचिन की राह पर चलते हुए 15 साल बाद विराट कोहली ने भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ, पांचवें टेस्ट में, मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर उन्नीसवीं पारी में 1,000 रन पूरे किए। जब दोनों ने रिकॉर्ड बनाया। उस समय दोनों की उम्र 26 साल थी और दोनों MRF के बैट से ही खेल रहे थे।

Also Read : ये हैं बीजेपी के एक्‍स मिनिस्‍टर की बेटी, सोशल मीडिया पर मचा रखी है सनसनी

भारतीय कप्तान और 183 रन

भारतीय क्रिकेट टीम के इतिहास के अनुसार 183 रन की पारी खेलने वाला खिलाड़ी आगे जाकर टीम का कप्तान बनता है। सौरभ गांगुली, महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली इस बात के उदाहरण हैं।

रवि शास्त्री और युवराज सिंह

1985 में टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज रवि शास्त्री ने फर्स्ट क्लास मैच में 6 गेंदों में 6 छक्के मारने का कीर्तिमान बनाया था। 22 साल बाद T20 वर्ल्डकप 2007 में युवराज सिंह ने 6 गेंदों में 6 छक्के मारे। इत्तेफाक की बात है जिस मैच में युवराज ने कीर्तिमान बनाया, उस मैच में कमेंट्री रवि शास्त्री ही कर रहे थे।

सर रवींद्र जडेजा

T20 वर्ल्ड कप 2009 में टीम इंडिया को मिली करारी हार की वजह से सर रवींद्र जडेजा को क्रिकेटप्रेमियों द्वारा विलन घोषित कर दिया गया था। यहाँ तक कि लोगों द्वारा उन्हें T20 फॉर्मेट के लिए मिसफिट बताया जाने लगा था और उन्हें संन्यास लेने तक की सलाह दे दी गई थी। मगर 2013 में ICC चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में ओवर कम कर दिए जाने की वजह से मैच T20 मैच में तब्दील हो गया था जिसमें जडेजा ने मुसीबत के समय 33 रन बनाने के साथ-साथ दो विकेट भी झटके थे और वो टीम इंडिया की जीत के हीरो और ‘मैन ऑफ द मैच’ बने थे।

दोहरा शतक और इंडिया की जीत

टीम इंडिया के तीन खिलाड़ियों द्वारा दोहरा शतक जमाने पर टीम को 153 रन की जीत मिली है। ये रिकॉर्ड भी अपने आप में एक संयोग है।

Also Read : टीम इंडिया ने श्रीलंका को 88 रनों से हराया, टी-20 सीरीज पर भी किया कब्‍जा

इंडिया और T20 फॉर्मेट

ICC द्वारा जब T20 फॉर्मेट जारी किया गया था, तब पूरी दुनिया में इसे काफी पसंद किया गया था। सिर्फ भारत ऐसा देश था जो इस फॉर्मेट के खिलाफ था। मगर जब 2009 में पहला ICC T20 वर्ल्ड कप खेला गया तो भारत उसमें विजेता बना और BCCI द्वारा T20 फॉर्मेट में शुरू किया गया IPL आज दुनिया की सबसे सफल क्रिकेट लीग्स में से एक है।

सचिन और सहवाग

वीरेंद्र सहवाग ने जब इंटरनेशनल क्रिकेट खेलना शुरू किया था तो उनके शॉट्स खेलने के तरीकों की वजह से उन्हें सचिन का जुड़वाँ कहा जाता था। क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर पहले ऐसे बेट्समैन हैं जिन्होंने वनडे मैच में दोहरा शतक जमाया। सचिन के बाद सहवाग ने 219 रन की पारी खेली और खुद को सचिन का जुड़वाँ साबित किया।

1983 के हीरोज

साल 1983 में जब टीम इंडिया ने वर्ल्डकप जीता था तब दिलीप वेंगसरकर, के.श्रीकांत और संदीप पाटिल उस विजेता टीम के हीरोज में से एक थे। ये हीरोज जब भारतीय क्रिकेट टीम के चीफ सिलेक्टर बने तो टीम ने कई मुकाम हासिल किये। वेंगसरकर के द्वारा सिलेक्ट की गई टीम ने भारत को 2007 T20 वर्ल्डकप, श्रीकांत के द्वारा सिलेक्ट की गई टीम ने 2011 ODI वर्ल्डकप और पाटिल के द्वारा सिलेक्ट की गई टीम ने 2013 में ICC चैंपियंस ट्रॉफी जिताई है।

Also Read : रोहित शर्मा ने जड़ा सबसे तेज शतक, 35 गेंदों में ही ठोक दी सेंचुरी

महेंद्र सिंह धोनी और पाकिस्तान

महेंद्र सिंह धोनी अपना पहला टेस्ट और वनडे शतक पाकिस्तान के खिलाफ लगाया था। ताज्जुब की बात है कि दोनों पारियों में उन्होंने 147 रन बनाए और दोनों पारियों में 4 छक्के लगाए।

99वें मैच में दोहरा शतक

टीम इंडिया के तीन खिलाड़ी ऐसे हैं जिन्होंने अपने 99वें मैच में दोहरा शतक लगाया है। सुनील गावस्कर ने वेस्टइंडीज के खिलाफ अपने 99वें मैच में 236 रन नाबाद, सौरव गांगुली ने पाकिस्तान के खिलाफ 239 रन और वीवीएस लक्ष्मण ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नाबाद 200 रन बनाए थे।

Source : 1, 2, 3

loading...