Wednesday , December 19 2018

अभी-अभी : इस बार जीत के बाद आई अजान की आवाज, पीएम मोदी ने किया ये

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने पूर्वोत्तर में भाजपा की जीत को राजनीतिक हत्या का शिकार हुए बीजेपी कार्यकर्ताओं को समर्पित किया। दिल्ली में बीजेपी के नये मुख्यालय में आयोजित एक सभा में पीएम मोदी ने ऐसे कार्यकर्ताओं को शहीद करार दिया और उनके सम्मान में मौन रखा। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे तभी पास के एक मस्जिद से अजान की आवाज आने लगी, इस पर पीएम मोदी ने दो मिनट के लिए अपना भाषण रोक दिया।

Also Read : 2019 से पहले हुई भविष्‍यवाणी, इस बार लालकिले से आखिरी भाषण देंगे PM मोदी

पीएम मोदी लगभग दो मिनट के लिए माइक के पास ही खड़े रहे, अजान खत्म होने पर ही पीएम मोदी ने अपना भाषण  शुरू किया। पीएम मोदी ने कहा कि भ्रम और झूठ फैलाने वाले को सबसे बढ़िया जवाब मतदाता ही देता है। पीएम मोदी ने कहा कि केरल, बंगाल और कर्नाटक में बीजेपी के दो दर्जन कार्यकर्ताओं की हत्या हुई है, उन्होंने कहा कि जब वे लोग राजनीतिक लड़ाई नहीं लड़ सकते हैं तो इस हद तक नीचे गिर आए हैं। फिर भी हम शांत रहते हैं। पीएम ने कहा कि जब हम कार्रवाई करते हैं तो वे लोग इसे वेंदेता (vendetta) कहते हैं, लेकिन ये वेंदेता नहीं है बल्कि देश को बेहतर बनाने की कोशिश है।

Also Read : राजनीति में मचा हड़कंप, बीजेपी ने तोड़ा 15 साल पुराना गठबंधन

पीएम मोदी अपने भाषण के दौरान कांग्रेस पर भी बरसे। राहुल गांधी पर अप्रत्यक्ष रूप से निशाना साधते हुए पीएम ने कहा कि कुछ ऐसे दल हैं जहां पर नेताओं का प्रमोशन हो रहा है, लेकिन उनका कद लगातार छोटा हो रहा है। पीएम ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का कद इतना छोटा पहले कभी नहीं हुआ होगा जितना आज हुआ है। पीएम मोदी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को भी सावधान किया। उन्होंने कहा कि सभी पार्टियों को यहां तक की बीजेपी को भी सावधान रहना होगा कि कांग्रेस की संस्कृति कहीं दूसरी पार्टियों में ना आ जाए।

Also Read : पीएनबी के बाद एक और बड़ा घोटाला आया सामने, सरकार के उड़े होश

प्रधानमंत्री मोदी ने इस मौके पर पूर्वोत्तर की जनता को धन्यवाद दिया और कहा कि पूर्वोत्तर आज विकास के पथ पर भारत का नेतृत्व करने के लिए आगे आया है। पीएम मोदी ने वास्तु शास्त्र ने पूर्वोत्तर राज्यों की तुलना की और कहा कि जैसे वास्तु में उत्तर-पूर्व का कोणा सबसे अहम होता है, उसी तरह आज पूर्वोत्तर हमारे लिए अहम हो गया है।

loading...