Saturday , November 23 2019

बीजेपी के लिए आई बुरी खबर, सोनिया गांधी ने दिया लालकृष्‍ण आडवाणी को बड़ा सहारा!

नई दिल्ली। जिस नेता ने भारतीय जनता पार्टी को अपने खून से सींचकर इस मुकाम तक पहुंचाया था आज उसे ही पार्टी से दरकिनार किया जा रहा है। जी हां, ये कोई और नहीं बल्कि भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी है। ये वही नेता है जो मात्र दो सीट हासिल करने वाली पार्टी भाजपा को सिखाया कि सत्ता में कैसे आया जाता है। लेकिन, जब पार्टी सत्ता में आ गई तो अब पार्टी के ही लोग उनको मार्गदर्शक मंडल में डालकर यह दिखा दिया कि उनकी पार्टी में अब कोई ख़ास जरूरत नहीं है।

Also Read : एक सन्‍यासी से मुलाकात के बाद इस तरह बदल गई पीएम मोदी की पूरी जिंदगी

गौर करने वाली बात है कि उम्र के इस पड़ाव में लाल कृष्ण आडवाणी को अब चलने-फिरने में दिक्कत होना स्वाभाविक है। हाल ही में इसी दिक्कत का सामना आडवाणी को संसद में भी करना पड़ा। आडवाणी अपना संतुलन खोकर गिरने ही वाले थे कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उन्हें सहारा दिया और गिरने से बचा लिया। इस दौरान भाजपा के बड़े-बड़े नेता निहारते रह गए पर आगे नहीं आये।

Also Read : लग गई मुहर, 2019 चुनाव में मोदी से टक्‍कर लेने वापस आएगी ये दिग्‍गज नेता

मोदी सरकार में एक बड़े नाम की शख्सियत रखने वाले अरुण जेटली आडवाणी को देख तमाशबीन बने रहे। कायदे के मुताबिक, जेटली को आगे बढ़कर आडवाणी की मदद के लिए हाथ बढ़ाना चाहिए था। लेकिन, ये बहुत शर्म की बात है कि जेटली आडवाणी की मदद के लिए आगे नहीं आये लेकिन, तारीफ़ करनी चाहिए सोनिया गांधी जो आडवाणी के लिए आगे आकर उनकी मदद की।

Also Read : नितिन गडकरी ने किया खुलासा, पीएम मोदी के इस नए फैसले से हिल जाएगी पूरी दुनिया

आपको बता दें, आडवाणी को मार्गदर्शक मंडल में डाल दिया गया है उनका राजनीतिक भविष्य भी चौपट हो गया है। लेकिन, ऐसा नहीं करना चाहिए जिससे मानवता शर्मसार हो जाये। देखा जाए पीएम मोदी हो या अरुण जेटली या चाहे अमित शाह यह सभी जितना भी आडवाणी को सम्मान का नाटक करते रहे पर इनके क्रियाकलाप यह सिद्ध करते हैं कि इनके दिल में पार्टी के पितामह के लिए क्या जगह है।

(NOTE : ये खबर हमने newstoindia.com से ली है, इस खबर के तथ्‍यों की जिम्मेदारी indiadrifts.com नहीं लेता, इसलिए यह खबर हमने अपने Copycat सेक्शन में लगाई है)

Source : (newstoindia.com से साभार)

loading...