Thursday , September 19 2019

अभी-अभी : बीजेपी को लगा तगड़ा झटका, गुजरात का सबसे बड़ा नेता कांग्रेस में शामिल

अहमदाबाद। इसी साल गुजरात में विधानसभा चुनाव होने हैं। बीजेपी और कांग्रेस के बीच यहां कड़ा मुकाबला है। 22 सालों से गुजरात में सत्ता में बैठी बीजेपी के लिए इस बार मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं। इस बार कांग्रेस काफी फॉर्म में नजर आ रही है। वहीं बीजेपी के लिए एक और बुरी खबर आ रही है। मोदी के घर गुजरात में बीजेपी को एक बड़ा झटका लगा है। गुजरात चुनावों से पहले कांग्रेस ने ओबीसी वोट बैंक पर सेंध लगाई है।

Also Read : डिबेट में साथ आए संगीत सोम और ओवैसी फिर जो हुआ देखकर रह जाएंगे हैरान

ओबीसी समुदाय के युवा नेता अल्पेश ठाकुर ने कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा की है। वह बनासकांठा से चुनाव लड़ सकते हैं। शनिवार शाम को दिल्ली में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात के बाद मीडिया से बातचीत में अल्पेश ठाकुर ने यह घोषणा की। गुजरात कांग्रेस के नेता भरत सिंह सोलंकी ने कहा कि 23 अक्टूबर को गांधीनगर में होने वाली राहुल गांधी की रैली में अल्पेश ठाकुर औपचारिक तौर पर कांग्रेस में शामिल होंगे।

Also Read : प्‍यारे देशवासियों… पेट्रोल-डीजल अब जीएसटी के दायरे में आएगा

अल्पेश ने कहा कि जिग्नेश मेवानी और हार्दिक पटेल दोनों उनके छोटे भाई हैं और वे तीनों मिलकर बीजेपी के खिलाफ लड़ेंगे। साथ ही यह भी कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी के सामने वे काफी छोटे लोग हैं। वे छोटी फुलझड़ी हैं, लेकिन कभी कभी छोटी फुलझड़ी बड़ा काम कर जाती है। सात साल से वह बीजेपी के खि‍लाफ लड़ाई लड़ रहे हैं। अल्पेश ने कहा कि चुनाव लड़ने के बारे में फैसला कांग्रेस पार्टी लेगी। वहीं पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने भी घोषणा की है कि कांग्रेस ने शर्तें मानी तो समर्थन देने को तैयार हैं। पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने यह भी कहा उन्हें भरोसा है कि कांग्रेस उनकी बात मानेगी।

Also Read : सोनिया गांधी पर मनमोहन सिंह ने किया ऐसा खुलासा कि राजनीति में आ जाएगा भूचाल

गुजरात में ओबीसी नेता के तौर पर उभरे अल्पेश ठाकुर पाटीदारों को आरक्षण देने का विरोध करते रहे हैं। साथ ही वह गुजरात सरकार के शराबबंदी के फैसले के पक्षधर रहे हैं। ओबीसी, एससी और एसटी एकता मंच के संयोजक अल्पेश ठाकुर ने अलग-अलग मंचों से गुजरात की हालत ख़राब होने की बात कही है। वह कहते हैं कि विकास सिर्फ दिखावा है, गुजरात में लाखों लोगों के पास रोज़गार नहीं है। राज्य में दलितों का वोट प्रतिशत करीब सात फीसदी है। राज्य की कुल आबादी लगभग 6 करोड़ 38 लाख है, जिनमें दलित 35 लाख 92 हजार के करीब हैं। ओबीसी का वोट प्रतिशत पाटीदार और दलितों से कही गुना ज्यादा है।

loading...