Thursday , July 19 2018

अभी-अभी : मोदी राज में पहली बार हुआ ऐसा, इस पूर्व सीएम को देश लूटने की मिली भयानक सजा

नई दिल्‍ली। कांग्रेस के कई बड़े और दिग्‍गज नेताओं पर भ्रष्‍टाचार के संगीन आरोप हैं। कई नेताओं पर ऐसे ही कई मामले अदालतों में चल रहे हैं। हालांकि अभी तक तो यही देखा जा रहा है कि ये सभी नेता कैसे कानून से बचते चले आ रहे हैं। लेकिन आज एक पूर्व मुख्‍यमंत्री को भ्रष्‍टाचार के ऐसे ही मामले में कोर्ट ने सजा सुना दी है।

Also Read : आया चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, गुजरात में फिर से होगी वोटिंग, इस दिन आएगा रिजल्ट

दरअसल कोयला घोटाले के आरोपी और झारखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री मधु कोड़ा सहित तीन आरोपियों को सीबीआई की स्‍पेशल कोर्ट ने तीन-तीन साल की सजा सुनाई है। इसके साथ ही कोड़ा पर 25 लाख रुपए का आर्थिक जुर्माना भी लगाया गया है। हालांकि, कोड़ा और बाकी तीन लोगों को दो महीने की अंतरिम जमानत भी दे दी गई, यह जमानत हाईकोर्ट में अपील के लिए दी गई है।

बता दें कि 13 दिसंबर को उनको दोषी करार दिया गया था, कोड़ा के साथ पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता, झारखंड के पूर्व मुख्य सचिव अशोक कुमार बसु को दोषी माना गया था। सभी लोगों को अपराधिक साजिश रचने और सेक्शन 120बी के तहत दोषी पाया गया।

Also Read : लग गई मुहर, गुजरात चुनाव का रिजल्‍ट आते ही अमित शाह को मिलेगा ये सबसे बड़ा पद

झारखंड के कोल ब्लॉक को कथित रूप से गलत तरीके से कोलकाता की विनी आयरन एंड स्टील उद्योग लिमिटिड (VISUL) को दे दिया गया था। इसी से जुड़ा यह मामला है। सीबीआई ने आरोप लगाया था कि VISUL जिसने रजहरा नोर्थ कोल ब्लॉक के लिए आठ जनवरी 2007 को अपना नाम दिया था उसको कोल ब्लॉक देने के लिए झारखंड सरकार या फिर स्टील मंत्रालय ने नहीं कहा था, लेकिन 36वीं स्क्रीनिंग कमेटी ने वह ब्लॉक आरोपी कंपनी को देने की वकालत की थी।

सीबीआई ने कहा था कि गुप्ता ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से इस तथ्य को छिपाया था कि झारखंड सरकार ने VISUL को ब्लॉक देने की वकालत नहीं की है। मनमोहन सिंह उस वक्त कोयला मंत्रालय के प्रमुख थे।

Also Read : सबसे बड़ी खुशखबरी, कानूनी रूप से ऐसे सिर्फ पांच दिनों में ही डबल हो जाएगा आपका पैसा

सीबीआई ने आरोप लगाया था कि कोड़ा, बसु और बाकी दो लोगों ने मिलकर पूरी साजिश रची थी ताकि VISUL को वह ब्लॉक आवंटित कर दिया जाए।

loading...