Thursday , September 19 2019

अभी-अभी : राहुल गांधी को सबसे बड़ा झटका, यहां कांग्रेस से अलग हुई ये सबसे बड़ी पार्टी

नई दिल्‍ली। चुनाव आयोग ने गुरुवार को पूर्वोत्तर के तीन राज्यों में विधानसभा चुनाव की घोषणा कर दी है। त्रिपुरा में 18 फरवरी को और मेघालय और नगालैंड में 27 फरवरी को चुनाव होंगे। तीनों राज्यों में चुनाव आचार संहिता लागू हो गई।

Also Read : आरबीआई ने खुद खोला राज, बताया- 10 रुपए के ये वाले सिक्‍के हैं असली

दूसरी ओर शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने चुनाव तारीखों के ऐलान से पहले ही घोषणा की है कि आगामी राज्य विधानसभा चुनाव वह अकेले लड़ेगी और कम से कम 42 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी। एनसीपी के महासचिव प्रफुल्ल पटेल ने कहा कि कुछ सीटों पर पार्टी का क्षेत्रीय दलों के साथ चुनावी गठबंधन हो सकता है। उन्होंने कहा कि चुनाव नजदीक आने पर स्थिति और स्पष्ट होगी।

Also Read : पीएम मोदी को बड़ा झटका, बीजेपी का सबसे सीनियर नेता आया तोगड़िया के साथ

एनसीपी मेघालय में पिछले पांच वर्षों से कांग्रेस नीत प्रगतिशील गठबंधन का समर्थन कर रही है। पटेल ने मुख्यमंत्री मुकुल संगमा पर सरकार में एनसीपी को उचित प्रतिनिधित्व नहीं देने के लिए आलोचना की। पटेल द्वारा एक बैठक की अध्यक्षता करने के बाद एनसीपी ने मेघालय और दो अन्य राज्यों नगालैंड और त्रिपुरा के लिए अपनी चुनावी योजनाओं का खुलासा किया।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘हम मेघालय के गारो हिल्स क्षेत्र में 24 में से 22 सीटों पर चुनाव लड़ने जा रहे हैं और खासी हिल्स में कम से कम 20 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे।’ 60 सदस्यीय मेघालय विधानसभा में 2013 के चुनावों के बाद एनसीपी के दो विधायक थे। सदन से सनोबर सुलैस के इस्तीफे के बाद पार्टी के एकमात्र विधायक एम ए संगमा बचे हैं।

Also Read : प्रवीन तोगड़िया ने मोदी का लिया नाम, लगाया ये सबसे बड़ा आरोप

पटेल ने कहा कि नगालैंड में पार्टी कम सीटों पर चुनाव लड़ेगी लेकिन उन्होंने सीटों की संख्या नहीं बताई। उन्होंने कहा, ‘नगालैंड में पहले हमारे चार विधायक थे।’ एनसीपी नेता ने कहा कि त्रिपुरा में ‘सांकेतिक’ तौर पर कुछ सीटों पर चुनाव लड़ने के अलावा पार्टी वहां से चुनाव नहीं लड़ेगी।

loading...