Wednesday , June 26 2019

अभी-अभी : सीएम योगी ने किया सबसे बड़ा खुलासा, तुरंत एक्शन में आई सरकार

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश में मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की सरकार बनते ही राज्य में भ्रष्‍टाचार के कई खुलासे हुए हैं। वहीं अब योगी सरकार ने एक नया खुलासा किया है। इस खुलासे में राज्‍य की पूर्व सरकार पर बड़े घोटाले का आरोप लगा है।

Also Read : एनडीटीवी पर आई सबसे बड़ी मुसीबत, आयकर विभाग ने किया नया खुलासा

दरअसल सीबी पालीवाल को कुछ दिनों पहले ही अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के अध्यक्ष पद पर नियुक्त किया गया है। गुरुवार 1 फरवरी को सीबी पालीवाल ने अपना कार्यभार संभाला तो उन्होंने कुछ पुरानी फाइलें देखीं। इसमें महिलाओं के लिए आरक्षित सीटों पर पुरुषों की भर्ती को पाया, जिसके बाद उन्होंने मामले पर तुरंत एक्शन लिया।

महिला कोटे में भर्ती हुए 79 अवर पुरुष अभियंता पर तुरंत कार्रवाई करते हुए आयोग के अध्यक्ष ने तुरंत छुट्टी कर दी। अभियंता भर्ती मामले में इतना बड़ा घोटाला सामने के बाद आयोग के अध्यक्ष का कहना है कि वर्ष 2015 में हई नियुक्तियों में महिलाओं के पदों पर पुरुषों की भर्ती की गई थी।

Also Read : इस्तीफे पर यशवंत सिन्‍हा ने किया सबसे बड़ा ऐलान, अब क्‍या करेगी बीजेपी?

मामले का खुलासा होने के बाद जिन विभागों में यह पुरुष काम कर रहे हैं, उन्हें पत्र भेजा जाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि जो महिलाएं चयनित की गई थी, उनमें भी 10 पदों में गड़बड़ी का मामला सामने आया है। उन्होंने बताया कि इस पूरे प्रकरण की जांच के लिए एक कमेटी का गठन किया जाएगा। जिन पदों पर गड़बड़ी के तहत नियुक्तियां की गई थी, उन्हें तुरंत बर्खास्त किया जाएगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अवर अभियंता और तकनीकी पद पर सामान्य चयन के तहत 757 भर्तियां वर्ष 2015 में की गई थी। इसमें 20 फीसदी महिलाओं के लिए आरक्षित किए गए थे। यानि की 757 पदों में से 151 पदों पर महिला अभियंताओं की नियुक्ती होनी थी, पर सिर्फ 72 महिलाओं की ही नियुक्ति की गई।

जिस वक्त यह भर्तियां हुईं थी, उस वक्त प्रदेश की सत्ता पर समाजवादी पार्टी का शासन हुआ करता था। रिपोर्ट्स के मुताबिक वर्ष 2015 में जब रिजल्ट आए थे तब महिला अभ्यर्थियों ने काफी हंमागा भी किया था, लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों ने किसी की भी नहीं सुनी थी।

Also Read : राजस्‍थान में बीजेपी को मिलेंगी इतनी सीटें, ये गणित कर देगा हैरान

आपको बता दें कि पालीवाल एक पूर्व आइएएस अधिकारी हैं। पालीवाल को आरएसएस के काफी करीबियों में से गिना जाता है वह पहले यूपी के कल्याण सिंह सरकार में सचिव भी रह चुके हैं। प्रदेश में जब भी भाजपा नीति की सरकार बनीं है पालीवाल को महत्वपूर्ण पदों का कार्यभार संभालने का जिम्मा मिला है। भाजपा सरकार के अलावा पालीवाल का नाम समाजवादी पार्टी की सरकार के दौरान पार्टी के तत्कालीन मंत्री आजम खां के साथ एक कहासुनी में भी सामने आया था।

loading...