Wednesday , August 22 2018

अभी-अभी : हुआ विधानसभा चुनाव का सेमीफाइनल, रिजल्‍ट देखकर आपके भी उड़ जाएंगे होश

नई दिल्‍ली। भाजपा के गढ़ मध्यप्रदेश में पार्टी की पकड़ कमजोर होती जा रही है। यहां कांग्रेस बीजेपी को कड़ी टक्कर देती दिखाई दे रही है। मप्र में नगरीय निकाय चुनावों के नतीजे शनिवार को सामने आए हैं। बीजेपी के गढ़ में कांग्रेस ने उसे बराबर की टक्कर दी है। 19 नगरीय निकायों में अध्यक्ष पद पर 9 भाजपा और 9 कांग्रेस के प्रत्याशी जीते। वहीं एक स्थान पर निर्दलीय प्रत्याशी ने बाजी मारी।

Also Read : हिमालय पर दिखा ‘ॐ’, वैज्ञानिकों का दावा- आ रहा है सबसे बड़ा खतरा

इस चुनाव नतीजों में सबसे बड़ी जीत धार की पीथमपुर नगर पालिका में भाजपा उम्मीदवार कविता वैष्णव की रही, जिसमें उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी को 22 हजार से ज्यादा मतों के अंतर से पराजित किया। वहीं, धार के सरदारपुर में कांग्रेस उम्मीदवार महेश 1065 मतों के अंतर से जीते, यह जीतने वाले उम्मीदवार का सबसे कम अंतर है।

Also Read : लग गई मुहर, इस राज्‍य में सीएम कैंडिडेट पर बीजेपी ने लिया सबसे बड़ा फैसला

मतगणना के बाद 19 नगरीय निकायों में पार्षद पद के लिए भाजपा के 194, कांग्रेस के 145 और 13 निर्दलीय प्रत्याशी विजयी घोषित किए गए हैं। इसके साथ ही सरपंचों के 90 आम निर्वाचन और 73 उपनिर्वाचन के परिणाम भी घोषित किए गए हैं। जिला पंचायत सदस्य के तीन और जनपद पंचायत सदस्य के 15 सदस्यों के उपनिर्वाचन के परिणाम भी घोषित किए गए हैं।

गुना जिले की राघौगढ़ नगरपालिका सीट से कांग्रेस की प्रत्याशी आरती शर्मा ने जीत हासिल की। यह वही सीट है, जिस पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह ने करीब 50 साल पहले नगरपालिका में अध्यक्ष पद जीत हासिल कर अपने राजनैतिक जीवन की शुरुआत की थी। राघौगढ़ नगरपालिका के कुल 24 वार्ड में से 20 में पार्षद पद पर कांग्रेस के कैंडिडेट विजयी रहे, जबकि चार में बीजेपी के पार्षद चुने गए।

Also Read : इधर आप सो रहे हैं ऊधर पाकिस्‍तान ने फिर बवाल कर दिया, हाईअलर्ट जारी

निकाय चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन उम्मीद के मुताबिक अच्छा नहीं रहने पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, पार्टी में बगावत की वजह से हमारा प्रदर्शन प्रभावित हुआ। धार, धरमपुरी और मनावर में बागी उम्मीदवारों की वजह से ही बीजेपी  प्रत्याशियों को हार का सामना करना पड़ा है। मेरे अलावा पार्टी के नेता यदि बागियों को यह चुनाव लड़ने से रोक सकते, तो शायद परिणाम पार्टी के हक में हो सकते थे।

loading...