Tuesday , July 17 2018

आर्म्स एक्‍ट केस में सलमान खान बरी, 18 साल बाद आया फैसला

salman_1484714888_749x421मुंबई। बॉलीवुड एक्टर सलमान खान पर 18 साल पुराना केस अभी भी चल रहा था। सलमान के पर आरोप था कि उन्होंने काले हिरण का शिकार किया है। लेकिन इस 18 साल पुराने आर्म्स केस से सलमान को जोधपुर की अदालत ने बाइज्ज़त बरी कर दिया है।

यह भी पढ़ें : शोले की म्यूजिक के साथ शाहरुख़ बनेंगे रईस

इस केस की सुनवाई में सलमान अपनी बहन अलवीरा के साथ कोर्ट पहुँचे थे। कोर्ट ने डेढ़ लाइन का फैसला सुनते हुए सलमान को इस केस से कुछ मिनटों में बरी कर दिया। जज ने इससे पहले सलमान के वकील को मुवक्किल को आधे घंटे में पेश करने का आदेश दिया था। जिस पर सरकारी वकील ने कहा है कि इससे सलमान को लाभ मिला है।

सलमान ने बरी हो जाने के बाद बहन अलवीरा से हाथ मिलाया

सलमान जोधपुर कोर्ट में फैसले के समय अपनी बहन अलवीरा के साथ थे। केस का फैसला होते ही सलमान ने खुशी के साथ अलवीरा से हाथ मिलाया और साथ ही अपने कई फैन्स को उसी समय ऑटोग्राफ भी दिए। और उसके बाद सलमान कोर्ट से चले गये।

सलमान पर 1998 में जोधपुर में ‘हम साथ-साथ हैं’ की शूटिंग के समय अवैध रूप से हथियार रखने का आरोप लगाया गया था।

सलमान पर आर्म्स एक्ट की धारा 3/25 और 25 के तहत केस चल रहा था। यदि इस एक्ट की पहली धारा के तहत सलमान को दोषी ठहराया जाता तो उन्हें अधिकतम तीन साल और दूसरी धारा के तहत दोषी पाए जाते तो सात साल की सजा हो सकती थी। लेकिन अदालत ने सलमान को बरी कर दिया। आर्म्स एक्ट की इन्हीं धाराओं के तहत दोषी पाए जाने पर फिल्म अभिनेता संजय दत्त को 6 साल की सजा हुई थी। जो फिलहाल जेल से आजाद हो चुके हैं।

इससे पहले, विश्नोई समाज के वकील महिपाल विश्नोई ने कहा था कि अगर तीन साल से अधिक की सजा होती है। तो सेशंस कोर्ट सियोरिटी लेकर छोड़ नहीं सकता। अगर सलमान को तीन साल से अधिक की सजा होती तो उन्हें जेल जाना पड़ेगा।

काले हिरण के शिकार वाले मामले में सलमान को साल 2006 में जोधपुर हाई कोर्ट ने बरी कर दिया था। फिल्म ‘हम साथ-साथ हैं’ है की शूटिंग के समय सलमान पर दो काले हिरण के शिकार का आरोप लगाया गया था।

यह भी पढ़ें : आमिर आए जायरा के बचाव में खुल कर सामने

केस में कब और कैसे क्या हुआ।।।।

फिल्म ‘हम साथ-साथ हैं’ की शूटिंग के समय सलमान के साथ ही एक्ट्रेस सोनाली बिंद्रे ,तब्बू, नीलम  और कई कलाकारों पर यह आरोप लगाया था।

सलमान के साथ सभी आरोपियों पर 2 अक्टूबर,1998 में यह आरोप दर्ज हुआ था। सभी लोगो पर 28 सितम्बर 1998 को आधी रात में राजस्थान के मथानिया और भवाद गाँव के काले हिरन का शिकार का आरोप लगाया गया था।

इस केस के चलते सलमान को 12 अक्टूबर को गिरफ्तार कर लिया गया था। इसके बाद 15 अक्टूबर को उन्हें जमानत भी मिल गयी थी। जिसके बाद 17 अक्टूबर को सलमान को रिहा भी कर दिया गया था।

सलमान को वन्य जीवन कानून की धारा 51 और 52 के तहत लोअर कोर्ट ने 10 अप्रैल 2006 को दोषी बताते हुए उन्हें 5 साल की सजा भी सुनाई थी। इतना ही नही इसके साथ ही उन पर 25 हजार रूपए का जुर्माना भी लगाया गया था।

सलमान की अपील को लोअर कोर्ट ने 24 अगस्त को 2007 में खारिज कर दिया था और उन्हें दोषी ठहरा कर उनकी सजा को बरकरार रखा था।

यह भी पढ़ें : हैली स्टीनफील्ड करेंगी इस फिल्म से अपना कमबैक

सलमान की सज़ा को राजस्थान हाई कोर्ट ने 31 अगस्ट 2007 को रद्द कर दिया था।

लोअर कोर्ट के सलमान को दोषी बताये जाने के फैसले को 12 नवम्बर 2013 को हाई कोर्ट ने निलंबित कर दिया था।

 

 

loading...