Wednesday , February 21 2018

जानिए लोहड़ी पर्व की पूजा करने का सही समय

lohri_1484197057_749x421मकर संक्रांति से पहले मनाया जाने वाला पर्व लोहड़ी 13  जनवरी 2017  को मनाया जायेगा. मकर संक्रांति से एक दिन पहले लोहड़ी पर्व को पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, दिल्ली के साथ-साथ पूरे उत्तर भारत  काफी धूम धाम से मनाया जाता है.लोहड़ी की पूजा करने के लिए कुछ विशेष तरीके भी अपनाये जाते है. शाम के समय लकड़ियों की ढेरी बना कर उसमें सूखे उपले रखकर विशेष पूजन के साथ लोहड़ी जलाई जाती है. तिल, गुड़, रेवड़ी और मूंगफली, गजक का भोग लगाया जाता है.

यह भी पढ़ें : पौष पूर्णिमा के साथ आज से शुरु हुआ माघ मेला

शुभ मुहूर्त 

लोहड़ी पूजन का मुहूर्त शाम 5:50 बजे से 6:18 बजे तक और रात 8 बजे से 8.30 बजे तक होगा.

यह भी पढ़ें : जानिए आखिर कहां, कब और कैसे हुआ मां काली का जन्‍म

फसल कटने के बाद मनाई जाती है लोहड़ी 
लोहड़ी पौष मास की आखिरी रात को मनाई जाती है. ये रबी की फसल के कटने का समय होता है. पंजाब और हरियाणा के किसान लोहड़ी का त्योहार मानने की विशेष तैयारी करते हैं. रेवड़ी, मक्का, तिल अग्नि को समर्पित कर अच्छी फसल की कामना करते हैं. गांव हों या शहर, हर जगह लोहड़ी धूम-धाम से मनाई जाती है. लोग रंग बिरंगे कपड़े पहनते हैं, गीत गाते हैं, ढोल की थाम पर डांस करते हैं. महिलाएं गिद्दा डांस करके खुशी मनाती हैं. आग की परिक्रमा कर खुशी मनाते लोग अपने दुख-दर्द को भूलकर लोहड़ी की मीठी-मीठी आंच में नई गरमाहट महसूस करते हैं. लोग एक दूसरे को लोहड़ी की बधाई देते हैं, रिश्तों में नई गरमाहट का अहसास महसूस करते हैं. आस-पड़ोस में लोहड़ी का प्रसाद बांटते हैं. खुशी मनाते हैं.

यह भी पढ़ें :हनुमान जी के ये मंदिर कर देंगें आपकी मनोकामना पूरी

 

loading...