Monday , June 24 2019

जियो को टक्‍कर देने के लिए अब वोडाफोन के साथ आया आइडिया, हुआ विलय

nothing-is-free-jio-will-have-to-charge-sooner-or-later-vittorio-colao-vodafoneनई दिल्ली। भारतीय टेलीकॉम इंडस्ट्री में जियो की धमाकेदार एंट्री ने बाकी कंपनियों के होश ऐसे उड़ाए कि अब कुछ कंपनियां आपस में विलय करने पर मजबूर हो गई हैं। सोमवार को वोडाफोन और आइडिया ने आपस में विलय का ऐलान कर दिया है।

आइडिया सेल्युलर ने सोमवार को कहा कि उसके निदेशक मंडल ने वोडाफोन इंडिया लिमिटेड और उसके पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी वोडाफोन मोबाइल सर्विस लिमिटेड के कंपनी (आइडिया) के साथ विलय को मंजूरी दे दी है।

आइडिया ने एक बयान में कहा कि वोडाफोन के पास संयुक्त कंपनी की 45.1 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी। बयान के मुताबिक, आदित्य बिड़ला समूह के पास 26 प्रतिशत हिस्सेदारी रहेगी और उसे समय के साथ हिस्सेदारी बराबर करने के लिए वोडाफोन से और अधिक शेयर लेने का अधिकार होगा।

आदित्य बिड़ला समूह के अध्यक्ष कुमार मंगलम बिड़ला ने कहा कि हमें अब तक समर्थन देने वाले आइडिया के शेयरधारकों और ऋणदाताओं के लिए यह विलय बेहद लाभप्रद रहेगा। आइडिया और वोडाफोन साथ मिलकर एक बेहद महत्वपूर्ण कंपनी बनाएंगे।

वोडाफोन समूह के कार्यकारी अध्यक्ष विट्टोरियो कोलाओ ने कहा कि वोडाफोन इंडिया और आइडिया के विलय से डिजिटल इंडिया का एक नया चैंपियन तैयार होगा। यह विलय दीर्घकालिक प्रतिबद्धता और पूरे भारत के गांवों, शहरों और कस्बों में विश्वस्तरीय 4जी नेटवर्क लाने के ध्येय से किया गया है।

loading...