Sunday , October 20 2019

दो नवंबर की रात होते ही चमक जाएगी इन राशियों की किस्‍मत, बदल जाएगा भाग्‍य

2 नवंबर की रात 12 बजकर 01 मिनट पर शुक्र तुला राशि में प्रवेश करेगा और 20 दिसंबर तक इसी राशि में रहेगा। शुक्र एक स्त्री ग्रह है। अंग्रेजी में इसे विनस कहते हैं। शुक्र का कारक भाव सातवां है और इसका रंग दही की तरह सफेद है।

Also Read : खूब बरसेगा पैसा ही पैसा, अगर चार नवंबर को कर लिया ये काम

शनि, बुध व केतु शुक्र के मित्र हैं, जबकि सूर्य, चंद्र व राहु इसके शत्रु हैं और मंगल व गुरु इसके लिये सम हैं। मीन राशि में शुक्र उच्च का और कन्या राशि में यह नीच का होता है। वहीं पहले, छठे और नवें भाव को छोड़कर अन्य भावों में यह शुभ फल देता है। लेकिन चंद्र-शुक्र किसी भी तरह शत्रु हों तो माता को आंखों संबंधी कष्ट हो सकता है।

इसके अलावा शुक्र की अशुभ स्थिति में त्वचा संबंधी विकार होते हैं। शुक्र की स्थिति अच्छी करने के लिये गाय से संबंधी उपाय करने चाहिए और घी, दही, कपूर मोती आदि दान करना चाहिए। शुक्र के तुला राशि में इस गोचर का विभिन्न राशियों पर क्या असर होगा, किस राशि पर इसके क्या शुभाशुभ प्रभाव होंगे और इसके लिये क्या उपाय करने चाहिए। जानिए उपायों के बारें में….

मेष राशि : आपके सातवें स्थान पर शुक्र का गोचर होगा। आपको माता-पिता से पूरा सुख और सहयोग मिलेगा। आपका अधिकतर समय यात्रा में बीतेगा। शुक्र का यह गोचर जातक को नरम स्वभाव वाला बनायेगा। अगर आपकी जन्मपत्रिका में चन्द्रमा पहले स्थान पर हो तो सास-बहू में प्यार बढ़ेगा। झगड़ों से दूरी बनाकर रखेंगे और लेन-देन में अधिक रुचि नहीं रखेंगे, लेकिन दूसरी स्त्री के वियोग के दुःख से आपकी पैतृक सम्पत्ति को नुकसान हो सकता है। अशुभ स्थिति में शुक्र आपकी संतान के लिये अच्छा नहीं होगा।

शुक्र के अशुभ प्रभावों से बचने के लिये और शुभ फल सुनिश्चित करने के लिए

गंदे नाले में 43 दिन तक लगातार नीला फूल डालें।
किसी मंदिर में शुक्रवार के दिन कांसे का बर्तन दान करें, साथ ही प्रतिदिन माता-पिता का आशीर्वाद लें।

वृष राशि : शुक्र का यह गोचर आपके छठे स्थान पर होगा। शुक्र के इस गोचर से गृहस्थी में तरक्की होगी। आपका जीवन सुख से बीतेगा। अगर आपकी शादी अभी नहीं हुई है और आपके घर वाले आपके लिये रिश्ता ढूंढ रहे हैं, तो ध्यान रखें कि किसी ऐसे घर में रिश्ता न करें जहां इकलौते लड़का या लड़की हो। 20 दिसंबर तक स्त्री का अपमान करना आप पर भारी पड़ सकता है। संतान से सुख पाने के लिये आपको कोशिश करनी पड़ेगी।

शुक्र के अशुभ प्रभावों से बचने के लिए

चांदी की ठोस गोली पास में रखें।
ध्यान रखें कि पत्नी जमीन पर नंगे पैर न चले और हर समय चप्पल या जुराब पहने रहे।

मिथुन राशि : पांचवे स्थान पर शुक्र के इस गोचर से धन की वृद्धि होगी। साथ ही धर्म के प्रति आस्था रखने वाले होंगे। आपका ज्ञान बढ़ेगा। शत्रु नष्ट होंगे और हर प्रकार से आपकी तरक्की होगी। लेकिन सन्तान से आपको अधिक लाभ नहीं होगा। युवा लोगों को प्रेम में दीवाना होने से बचना चाहिए। आपको अपने मेकअप से संबंधित कॉस्मेटिक्स और परफ्यूम आदि संभालकर रखने की जरूरत है। उनके खो जाने या चोरी हो जाने का डर दिखाई पड़ता है। लोगों का विश्वास बनाकर रखें। आप जो कहें, उसे पूरा करने की कोशिश करें।

शुक्र की अशुभ स्थिति से बचने के लिए

गाय और माता की सेवा करनी चाहिए।
मन को अपवित्र होने से बचाना चाहिए।
चांदी पहनकर रखें।

Also Read : हो जाएंगे मालामाल, इस एकमात्र उपाय से चुटकियों में खत्‍म हो जाएगी शनि की साढ़ेसाती

कर्क राशि : शुक्र का यह गोचर हरफनमौला लोगों के साथ आपकी दोस्ती बढ़ाने वाला होगा। इस राशि वालों को एकस्ट्रा मैरिटल रिलेशन का बड़ा भारी अवसर सामने खड़ा दिखाई गा। बेहतर होगा आप अपनी पत्नी को ही दूसरी स्त्री मानकर प्रेम बनाए रखें। ऐसा करने से आपको आर्थिक तंगी से मुक्ति मिलेगी और साथ ही ईश्वरीय सहायता प्राप्त होगी। आपको इस दौरान अपने आपको किसी न किसी काम में बिजी रखना चाहिए और बोरिंग अवॉयड करनी चाहिए।

शुक्र की अशुभ स्थिति को भी शुभ करने के लिए

आडू की गुठली में काला सुरमा भरकर जमीन के नीचे दबाएं।
20 दिसंबर तक प्रतिदिन कुएं में एक चुटकी हल्दी डालने से बच्चों के काम बनेंगे।
नशा अवायॅड करने से बेहतर करियर अपॉर्चुनिटि मिलेगी।

सिंह राशि : आपके तीसरे स्थान पर शुक्र जायेगा। शुक्र के इस गोचर से आपके जीवनसाथी का मन भटक सकता है, साथ ही उन्हें क्रोध भी आयेगा। आपका मन भी भटकाव की स्थिति में हो सकता है। लेकिन माता-पिता का सुख अवश्य मिलेगा। आपके और आपके माता-पिता के लिये 20 दिसंबर तक किसी तीर्थ स्थल पर यात्रा करना शुभफलदायी होगा। आपको इस बीच अपना मकान बदलना पड़ सकता है। स्वास्थ्य को कुछ कष्ट हो सकता है। रातों की नींद भी उड़ सकती है, लेकिन रात में जागने से धन हानि होगी।

शुक्र के बुरे प्रभावों से बचने के लिए

स्त्री का सम्मान करें, चाहें अपनी स्त्री हो या दूसरे की।
अपना मन भटकने से बचाएं, किसी न किसी काम में अपने आपको बिजी रखें।

कन्या राशि : शुक्र के इस गोचर से आपके शत्रु आपका कुछ नहीं बिगाड़ पायेंगे। आपको सभी सांसारिक सुख मिलेंगे। आपका घर राजा के जैसा हो जायेगा और आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। गृहस्थ जीवन का पूरा सुख मिलेगा। अगर आप गौ मुखी मकान में रहते हो, यानि ऐसे मकान में रहते हैं जो आगे से पतला और पीछे से चौड़ा हो तो आपकी संतान और आपके भाईयों की तरक्की इस बात पर डिपेंड करेगी कि आप अपने गुरु का कितना सम्मान करते हैं। 2 नवंबर से 20 दिसंबर के बीच पशुपालन और कच्ची मिट्टी के काम से जुड़े लोगों को शुक्र के इस गोचर से दो गुना फल प्राप्त होगा। आजीविका का नया साधन ढूंढने के लिये भी समय अच्छा है।

शुक्र के शुभ प्रभाव सुनिश्चित करने के लिए

दो सौ ग्राम गाय का घी मन्दिर में दें।
2 किलो आलू हल्दी से पीले करके गाय को खिलाएं।

तुला राशि :

शुक्र का यह गोचर आपके पहले स्थान पर जायेगा। शुक्र के इस गोचर से आपको हर तरह के सुख-साधन मिलेंगे। शीघ्र ही आपके विवाह के लिये प्रस्ताव आयेंगे। अगर आप पहले से विवाहित हैं तो आपको संतान सुख मिलेगा और अगर खुद की संतान विवाहित है तो उसे संतान सुख मिलेगा। 16 से 36 वर्ष की आयु वालों को अपने दिलों-दिमाग पर काबू रखना चाहिए। अपनी स्त्री से प्रेम-पूर्वक रहें। साथ ही पत्नी के स्वास्थ्य का खास ख्याल रखने की आवश्यकता है। सतनाज का दान करने से स्वास्थ्य में सुधार होगा।

शुक्र के बुरे प्रभावों से बचने के लिये और शुभ स्थिति सुनिश्चित करने के लिए

2 नवंबर से 20 दिसंबर के बीच गुड़ न खाएं।
काली गाय की सेवा करें।

वृश्चिक राशि : आपकी पत्रिका में बारहवें स्थान पर शुक्र का यह गोचर आपको हर तरह से सुख देने वाला होगा। अगर 20 दिसंबर तक आपका विवाह होने वाला है तो समझ लीजिये आपका भाग्योदय भी हो गया। आपको स्त्री का पूरा सहयोग मिलेगा। वह आपके हर सुख-दुःख की साथी रहेगी। धन की प्राप्ति होगी और रातों को आराम मिलेगा। कविता लेखन में आपका इंटरेस्ट बढ़ेगा। लेकिन शुक्र की अशुभ स्थिति में स्वास्थ्य संबंधी परेशानी हो सकती है, दूसरों की सहायता मिलने में देर होगी।

अच्छे फल सुनिश्चित करने के लिए

स्त्री को मान-सम्मान व प्यार दें।
घर की किसी स्त्री के हाथों कहीं विराने में नीला फूल या धूल दबा दें। सभी परेशानियां दूर होंगी।

Also Read : इन राशि वालों पर शुरू हो चुकी है शनि की साढ़ेसाती, फिर भी मिलेगा राजयोग

धनु राशि : शुक्र का यह गोचर आपको धन लाभ करायेगा। आपके स्वभाव में बार-बार बदलाव आयेंगे। आप कार्यों को छिपाकर करने की कोशिश करेंगे। अपने तेज स्वभाव को अपनी मासूमियत और अपने भोले चेहरे से छिपाने का प्रयास करेंगे। इस बीच आपकी सुन्दरता भी निखरेगी। आपको अपने बचपन की कोई बात याद आ सकती है। धन आने का योग बन रहा है, खासकर कि लड़कियों के भाग्य में। अगर जन्मकुंडली में शुक्र अशुभ स्थिति में हो तो धन की बर्बादी भी हो सकती है।

शुक्र के अशुभ प्रभावों से बचने के लिये और शुभ फल सुनिश्चित करने के लिए

तेल का दान करें।
रूई व दही भी मन्दिर में दान करें।

मकर राशि : शुक्र का यह गोचर आपके दसवें स्थान पर होगा। शुक्र के इस गोचर से आपका आकर्षण दूसरी स्त्री की तरफ होगा। धन के प्रति लालच बढ़ेगा। वाहन सुख मिलेगा। आपका बुढ़ापा और जवानी दोनों अच्छे से बितेंगे। धार्मिक प्रवृत्ति बढ़ेगी। अगर जन्मपत्रिका में शनि शुभ हो तो स्त्री की आंखों की रोशनी अच्छी रहेगी। वहीं शुक्र की अशुभ स्थिति में स्त्री को कष्ट हो सकता है।

शुक्र की शुभ स्थिति सुनिश्चित करने के लिये और अशुभ प्रभावों से बचने के लिए

परफ्यूम का नियमित प्रयोग करें।
संयमता से काम लें।
शनि संबंधी उपाय करें, तेल का दान करें।

कुंभ राशि : शुक्र का यह गोचर आपसे कड़ी मेहनत करायेगा। फिर भी मेहनत के अनुसार आपको फल नहीं मिलेगा। सन्तान से भी ज्यादा सुख मिलने की उम्मीद नहीं है, लेकिन इस दौरान आपकी बौद्धिक क्षमता अच्छी रहेगी। साथ ही 2 नवंबर से 20 दिसंबर के बीच तीर्थ यात्रा करना आपके लिये शुभ रहेगा। इस दौरान अपने धन को संभालकर रखें, व्यर्थ के कामों में खर्च करने से बचें।

शुक्र के शुभ फल सुनिश्चित करने के लिए

गाय की सेवा करें।
नीम के पेड़ के नीचे चांदी का छोटा-सा चौकोर टुकड़ा दबा दें, आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।
नया घर बनवा रहे हैं तो उसकी नींव में चांदी या शहद दबाएं।

मीन राशि : शुक्र आपके आठवें स्थान पर जायेगा। शुक्र के इस गोचर से आप दूसरों के कर्जदार बन सकते हैं और कर्ज आपके स्वास्थ्य को हानि पहुंचा सकता है। बेहतर होगा 2 नवंबर से 20 दिसंबर के बीच आप किसी के साथ लेन-देन न करें और किसी की जमानत देने से बचें। आपकी स्त्री का स्वभाव आपके लिये कुछ कठोर होगा। आपको उसकी हर बात मानने के लिये बाध्य होना पड़ेगा। इस बीच आपका व्यवहार कुछ कठोर हो सकता है। स्त्री का स्वास्थ्य ठीक रखने के लिये ज्वार का दान करें या उसे जमीन में दबा दें।

शुक्र के बुरे प्रभावों से बचने के लिए और अच्छी स्थिति सुनिश्चित करने के लिए

घर से निकलते वक्त मन्दिर में सिर झुकाएं, शत्रु कमजोर होगा।
गंदे नाले में पूरे 43 दिनों तक तांबे का सिक्का या नीला फूल डालें।

loading...