Thursday , June 27 2019

प्रणब मुखर्जी ने खोला बड़ा राज़, बताया- क्यों सोनिया ने उन्हें नहीं, मनमोहन को बनाया पीएम

नई दिल्ली। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 25 जुलाई को अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद पहली बार एक चैनल को इंटरव्यू दिया और कई मुद्दों पर खुलकर बात की। केंद्र में जब कांग्रेस की सरकार थी और तत्तकालीन सरकार पर अपनी राय रखी। प्रणब मुखर्जी ने अपने इस इस इंटरव्यू में कुछ ऐसी बातें भी कही है तो शायद पीएम मोदी को पसंद नहीं आएंगी। उन्होंने मनमोहन सिंह को पीएम पद के लिए बेस्ट च्वाइस बताया है। प्रणब मुखर्जी की कुर्सी अब रामनाथ कोविंद ने संभाल ली है। मुखर्जी ने 2014 के आम चुनाव में कांग्रेस की हार से लेकर GST समेत कई मुद्दों पर चर्चा की।

Also Read : ये क्‍या! लेडीज टॉयलेट में शू-शू करने पहुंच गए राहुल गांधी

2004 में सोनिया द्वारा प्रणब मुखर्जी को छोड़कर मनमोहन सिंह को पीएम बनाए जाने पर जब उनसे सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, मुझे इस बात का बिलकुल बुरा नहीं लगा क्योंकि मुझे ऐसा लगा कि उस समय मैं भारत का प्रधानमंत्री बनने के लायक नहीं हूं। क्योंकि देश के पीएम को हिन्दी भाषा का अच्छा ज्ञान होना जरूरी है लेकिन मुझे हिन्दी ठीक से नहीं आती थी। प्रणब मुखर्जी ने बताया कि कहीं न कहीं इसकी वजह यह थी कि मैं ज्यादा समय से राज्यसभा का सदस्य रहा।

Also Read : बीजेपी को मिली अब तक की सबसे बड़ी हार, क्‍या खत्‍म होने लगी मोदी लहर

उन्‍होंने आगे बताया कि केवल मैंने 2004 में ही लोकसभा सीट जीती थी। मैं हिंदी भी अच्छे से नहीं जानता था। ऐसे में किसी हिंदी नहीं जानने वाले को पीएम नहीं बनना चाहिए था। उन्होंने मनमोहन सिंह को पीएम बनाए जाने के सोनिया गांधी के फैसले को सही ठहराते हुए कहा कि उस समय मनमोहन को पीएम बनना सोनिया गांधी की सबसे सही पसंद थी, इसके साथ ही प्रणब मुखर्जी ने माना कि सीटों की गड़बड़ी और गठबंधन में कमजोरी कहीं न कहीं यूपीए सरकार की आम चुनाव में हार की वजह बनी थी।

Also Read : पीएम मोदी ने दिए थे संकेत, इस राज्‍य में ये नेता हो सकता है मुख्‍यमंत्री उम्‍मीदवार

इसके साथ ही मुखर्जी ने ये भी कहा है कि अगर बीजेपी सरकार को ऐसा लगता है कि 132 साल पुरानी पार्टी फिर से सत्ता में नहीं आएगी तो ये उनकी गलतफहमी है। उन्होंने पेट्रोल-डीजल के दामों में इजाफा, जीएसटी और अर्थव्यवस्था में गिरावट को लेकर मोदी सरकार की हो रही आलोचना और आम जनता के गुस्से के सवाल पर भी अपनी राय रखी। प्रणब ने सलाह दी कि पैनिक पैदा न किया जाए और न ही इतनी ज्यादा बार बदलाव किया जाए।

Also Read : हिमाचल प्रदेश में इस तारीख को होगी वोटिंग, इस दिन आएंगे परिणाम

हालांकि पूर्व राष्ट्रपति ने पीएम मोदी की भी जमकर तारीफ की है। प्रणब मुखर्जी ने कहा कि पीएम मोदी के साथ मेरे बहुत ही अच्छे संबंध हैं और दो अलग-अलग राजनीतिक पार्टियों से ताल्लुक रखने के बावजूद दोनों नेता एक दूसरे का काफी सम्मान करते हैं। मोदी के नेतृत्व वाली सरकार की तारीफ करते हुए प्रणब मुखर्जी ने कहा कि गठबंधन की सरकार से बहुमत की सरकार ज्यादा अच्छी है।

loading...