Tuesday , September 17 2019

बजट 2017 में होगा ऐलान, अब नहीं लगेगा कोई टैक्‍स!

PM Modi in Washingtonनई दिल्‍ली। आने वाले आम बजट 2017-18 में मोदी सरकार एक बड़ा ऐलान कर सकती है। खबर के अनुसार अब आपका पैसा सिर्फ और सिर्फ आपका होगा। जी हां, मोदी सरकार अब आपके पैसे पर कोई टैक्‍स नहीं लगाएगी।

यह भी पढ़ें :- …तो इस लिए ऋतिक हैं थोड़े अंधविश्वासी

दरअसल प्रॉविडेंट फंड (पीएफ) को लेकर आने वाले बजट में मोदी सरकार लोगों को राहत दे सकती है। सरकार पीएफ के पैसे निकालने पर कटने वाले टैक्स की लिमिट बढ़ा सकती है। श्रम मंत्रालय ने भविष्य निधि निकासी पर कर कटौती के लिए प्रारंभिक सीमा में चार गुना वृद्धि की मांग की है।

यह भी पढ़ें :- महिलाओं की निगाहें ढूंढती हैं ऐसा Mr. Right

आपको बता दें कि अभी 50 हजार रुपए तक निकलने पर कोई टैक्स नहीं देना होता है। मंत्रालय की ओर से आगामी बजट में इस लिमिट को बढ़ाकर दो लाख रुपए किए जाने की मांग की गई है। अगर मंत्रालय का यह प्रस्ताव मंजूर हो जाता है तो आप दो लाख रुपए तक बिना किसी कटौती के निकाल सकेंगे। यहां तक की सर्विस के पांच साल पूरे नहीं होने की स्थिति में भी।

यह भी पढ़ें :- सेक्सरसाइज की कुछ ट्रिक जो रखेंगी आपको जवान

वर्तमाव में पांच साल से पहले 50 हजार रुपए से ज्यादा की रकम पीएफ से निकालने पर 34.608% इनकम टैक्स देना होता है। 50 हजार से कम पैसे निकालने पर कोई भी कटौती नहीं होती है।

यह भी पढ़ें :- चाहे जितना देख लो पोर्न मगर ये कभी मत करना

एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक सेंट्रल बैंक ऑफ ट्रस्टी की मीटिंग में पैसे निकालने की सीमा बढ़ाने पर बात हुई। मीटिंग में यह लिमिट भी कम और इसे 2 लाख रुपए से ज्यादा भी बढ़ाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें :- आपकी राशी बताएगी बिस्तर में कितने दबंग हैं आप

आपको बता दें कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने हाल ही में श्रम मंत्रालय को लेटर लिखा था, जिसे 2017-18 के केंद्रीय बजट में शामिल करने के लिए वित्त मंत्रालय को भेज दिया गया है। वहीं केंद्र सरकार ने पिछले साल पीएफ निकासी की सीमा को बढ़ाया था।

यह भी पढ़ें :- ब्लाइंड डेट पर होना है सक्सेसफुल तो रखें इन बातों का ख्याल

उस समय सरकार ने पीएफ निकासी की मौजूदा सीमा को 30 हजार रुपए से बढ़ाकर 50 हजार रुपए कर दिया था। यह प्रावधान एक जून 2016 से लागू हुआ था। इससे कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के अंशधारकों को राहत मिली।

loading...