Wednesday , November 22 2017
Breaking News

भारत के सामने चीन ने टेके घुटने, खुद ही ले लिया ये सबसे बड़ा फैसला!

नई दिल्‍ली। भारत और चीन के बीच जारी डोकलाम विवाद अब अपने सांतवे हफ्ते में प्रवेश कर चुका है। भारत और चीन के बीच सीमा पर तनातनी अभी भी बरकरार है। हालांकि इस बीच खबर आई है कि भारत के अपने रूख पर कायम रहने के बाद अब चीनी सेना ने खुद हार मानना शुरू कर दिया है।

यह भी पढ़ें :-  शरद यादव के बाद अब देश का ये दिग्‍गज नेता भी आया लालू के साथ

दरअसल खबर है कि चीनी सैनिक कब्जे वाली पीछे हटने को तैयार हो गये हैं। बताया जा रहा है कि चीनी सेना ने भारतीय सेना के कहने के बाद इस पर सहमति जताई है। बता दें कि भारतीय सेना ने चीनी सेना से डोकलाम से 250 मीटर पीछे जाने को कहा था।

यह भी पढ़ें :-  ब्‍लॉग : क्या कोर्ट राज्यसभा की तीनों सीटों का चुनाव रद्द कर सकती है?

इंडिया टुडे के मुताबिक, चीन की तरफ से कहा गया है कि उनकी सेना विवादित स्थल से 100 मीटर पीछे हटने को तैयार है लेकिन भारतीय सेना को भी अपनी पूर्व स्थिति पर लौटना होगा। इस संवाद और सहमति का सीधा सा मतलब इतना है कि डोकलाम विवाद से दोनों ही देश सम्मानजनक विदाई चाहते हैं।

यह भी पढ़ें :-  युद्ध की उल्टी गिनती शुरू, चीन से निपटने के लिए पीएम मोदी ने खोल दी अपनी ‘तिजोरी’

इसी बीच चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने एक बेनाम चीनी सैन्य अधिकारी के हवाले से लिखा है कि चीनी सैनिक डोकलाम से एक कदम भी पीछे नहीं हटेंगे। यानी चीनी मीडिया अभी भी उस विवाद को हवा देने में लगी हुई है। इससे पहले भी चीनी अखबार ने भारत को जंग के लिए ललकारा था।

यह भी पढ़ें :-  मिल गई नई जिम्‍मेदारी, बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने दिया अपने ‘पद’ से इस्तीफा

चाईना डेली ने अपने संपादकीय में लिखा था, दो ताकतों के बीच टकराव होने की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है। समय हाथ से निकलता जा रहा है। संपादकीय में यह भी लिखा था कि भारत को जल्द ही अपने जवान क्षेत्र से हटा लेने चाहिए ताकि दोनों मुल्कों के बीच बातचीत हो सके और किसी तरह का संघर्ष न हो।

यह भी पढ़ें :-  सबसे बड़ी मुश्किल में मोदी, गुजरात में नतीजों से ठीक पहले कांग्रेस ने शुरू की नई लड़ाई

‘न्यू डेल्ही शुड कम टू इट्स सेंसिस वाइल इट हैड टाइम’, शीर्षक से प्रकाशित इस संपादकीय में और भी कई बातें लिखी गई हैं। इधर, सीमा और महासागर मामलों के चीनी उप महानिदेशक वांग वेनेली ने कश्मीर और उत्तराखंड पर हमला करने की धमकी दी है, जहां चीन के साथ भारत की एक तिहाई सीमा पाकिस्तान और नेपाल के साथ मेल खाती है।

यह भी पढ़ें :-  मोदी सरकार को मिला सबसे बड़ा नोटिस, अब धारा 370 को खत्‍म करेगा सुप्रीम कोर्ट

दोनों देशों की तरफ से एक जैसी रिपोर्ट आ रही है कि चीन के (पीपुल्स लिबरेशन आर्मी) पीएलए ने डोकलाम गतिरोध बिंदु से करीब एक किलोमीटर दूरी पर तंबू में लगभग 300-400 सैनिकों को तैनात किया है। दूसरी ओर, भारत ने भी सूकना आधारित 33 कोर को किसी भी आपात स्थिति के लिए तैयार रहने को कहा है और डॉकलाम या डोका ला क्षेत्र में सैन्य सुदृढीकरण के आदेश का इंतजार करने के लिए कहा है।

यह भी पढ़ें :-  सत्‍ता के नशे में चूर बीजेपी नेता ने रोक दे एंबुलेंस, मौके पर ही मर गया मरीज

समाचार एजेंसी पीटीआई ने एक भारतीय सैन्य अधिकारी के हवाले से लिखा है कि भारतीय सेना डोकलाम विवाद में चीनी सैनिकों के प्रति “नो वार, नो पीस” की नीति पर फिलहाल चल रही है। बता दें कि नो वार नो पीस मोड में सेना पिछले दो महीने से है। इसकी शुरुआत पहली जून को हुई थी जब चीनी सेना ने भारतीय सेना से साल 2012 में स्थापित किए गए दो बंकर को डोकलाम से हटाने को कहा था।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *