Monday , May 28 2018

ये देखिए, नोटबंदी के कारण ये शख्‍स बन गया सबसे युवा भारतीय अरबपति

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले के कारण एक शख्‍स अरबपति बन गया है। जी हां, मोबाइल वालेट पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा (39) सबसे कम उम्र के भारतीय अरबपति बन गए हैं। फोर्ब्स ने दुनिया के अरबपतियों की 2018 की सूची में 1.7 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ शर्मा को 394 वें पायदान पर रखा है।

Also Read : लगा सबसे बड़ा झटका, इस दिग्‍गज नेता ने पार्टी से दिया इस्‍तीफा

शर्मा 40 साल से कम उम्र के एकमात्र भारतीय अरबपति हैं। शर्मा ने 2011 में मोबाइल वॉलेट पेटीएम की स्थापना की थी। इसके साथ ही ई- कॉमर्स कारोबार पेटीएम मॉल और पेटीएम पेमेंट्स बैंक भी खड़ा किया। फोर्ब्स ने कहा कि नोटबंदी के सबसे बड़े लाभार्थियों में से एक पेटीएम के 25 करोड़ से ज्यादा पंजीकृत उपयोगकर्ता हैं और इस प्लेटफॉर्म पर प्रतिदिन 70 लाख लेनदेन होते हैं। शर्मा के पास पेटीएम में 16 प्रतिशत हिस्सेदारी है, जिसका मूल्य 9.4 अरब डॉलर है।

Also Read : अगर बैंक अकाउंट से नहीं लिंक कराया है आधार, तो ये पढ़कर पड़ेंगे उछल

भाषा की खबर के मुताबिक, इस बीच एल्केम लैबोरेटरीज के सेवामुक्त चेयरमैन संप्रदा सिंह सबसे बुजुर्ग भारतीय उद्योगपति हैं। 1.2 अरब डॉलर की कुल संपत्ति के साथ उन्हें सूची में 1,867 स्थान मिला है। सिंह ने एल्केम की स्थापना 45 साल पहले ही थी। खुद का व्यवसाय शुरू करने से पहले वह एक दवा की दुकान पर काम करते थे।

Also Read : कांग्रेस को मिली सबसे बड़ी जीत, इस चुनाव में नहीं चली मोदी लहर

आपको बता दें कि बिजनेस मैगजीन फोर्ब्स ने दुनिया के तमाम धनवानों की इस साल की लिस्ट जारी कर दी है। इसमें अमेजन के सीईओ जेफ बेजोस का नाम सबसे ऊपर है। वहीं उद्योगपति मुकेश अंबानी दुनिया के टॉप-10 धनवानों की लिस्ट से अभी भी बाहर हैं। ब्लूमबर्ग और फोर्ब्स दोनों ने इस साल अपने अरबपतियों की सूची में बेजोस को सबसे ऊपर रखा है। फोर्ब्स ने बेजोस की संपत्ति 112 बिलियन डॉलर बताई है। इससे पहले यह रिकॉर्ड माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स के नाम था। बेजोस की ज्यादातर संपत्ति उनके पास मौजूद अमेजन के 7.89 करोड़ शेयर से आती हैं।

loading...