Saturday , September 21 2019

राष्‍ट्रपति चुनाव से ठीक एक दिन पहले सबसे बड़ी पार्टी ने बदला पाला, विपक्ष की हार तय!

नई दिल्‍ली। देश में सोमवार को होने वाले राष्‍ट्रपति चुनाव से ठीक एक दिन पहले पूरे विपक्ष को तगड़ा झटका लगा है। दरअसल यह विपक्ष को यह झटका समाजवादी पार्टी के संरक्षक और आजमगढ़ से सांसद मुलायम सिंह यादव के साथ उनके छोटे भाई शिवपाल यादव की ओर से लगा है।

यह भी पढ़ें :- मोदी पर भ्रष्‍टाचार के आरोप की याचिका दायर करने वाले को अदालत ने भेजा डॉक्टर के पास

खबर है कि समाजवादी पार्टी विपक्ष की उम्‍मीदवार मीरा कुमार को अपना समर्थन नहीं देगी। बता दें‍ कि मुलायम सिंह यादव पहले ही एनडीए के उम्‍मीदवार रामनाथ कोविंद को सबसे मजबूत और अच्‍छा प्रत्‍याशी बता चुके हैं, वहीं अब शिवपाल भी कोविंद के समर्थन में खुलकर उतर आए हैं।

यह भी पढ़ें :- ‘आरएसएस प्रमुख के खिलाफ सोनिया और राहुल ने रचा था षडयंत्र’

शिवपाल यादव ने रामनाथ कोविंद की खुलकर प्रशंसा की है। वहीं इसके साथ ही मुलायम पहले ही लखनऊ में कोविंद के सम्‍मान में आयोजित डिनर में मौजूद रहकर उनको समर्थन देने का इशारा कर चुके हैं।

वहीं अब इस मामले में इटावा के जसवंतनगर से विधायक और अखिलेश यादव सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे शिवपाल सिंह यादव ने तो साफ कह दिया है कि उनका मत रामनाथ कोविंद को ही जाएगा। विपक्ष के इन दो मजबूत नेताओं ने ही मीरा कुमार के वोट बैंक में सेंध लगा दी है।

यह भी पढ़ें :- धारा 370 पर सीएम महबूबा के बयान के बाद हुआ चौंकाने वाला खुलासा, पूरा देश हैरान

उत्तर प्रदेश के समाजवादी परिवार में झगड़े का असर राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की एकता पर भी पड़ रहा है। यह तय है कि मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव क्रॉस वोटिंग करेंगे। समाजवादी पार्टी के यह दोनों दिग्गज अखिलेश यादव तथा मीरा कुमार की अपील से अलग एनडीए उम्मीदवार को वोट देंगे।

राष्ट्रपति पद के चुनाव में बीजेपी की अगुवाई एनडीए के बढ़ते जनाधार को देखते हुए विपक्षी नेताओं के सामने अस्तित्व का खतरा पैदा हो गया है। वोटों के गणित के हिसाब से संयुक्त विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार वैसे ही पिछड़ती दिख रही हैं। इसके बाद मुलायम सिंह यादव तथा शिवपाल सिंह यादव के पाला बदलने के चलते उनकी दावेदारी और भी कमजोर होती दिख रही है।

आपको बता दें कि मुलायम सिंह यादव ने 20 जून को लखनऊ में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सम्मान में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ओर से रात्रि भोज में शिरकत करके राष्ट्रपति चुनाव में कोविंद का ही समर्थन करने के स्पष्ट संकेत दिये थे। जबकि अखिलेश यादव तथा बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने निमंत्रण मिलने के बाद भी रात्रिभोज का बहिष्कार किया था।

loading...