Friday , March 24 2017
Breaking News

शनिवार के दिन घर पर बिल्‍कुल भी न लाएं ये वस्तुएं  

shanidev-300x173-2-300x173वस्तुएं या संसाधन मानव का जीवन सहज और सरल बनाते हैं। यूं तो किसी भी वस्तु के उपयोग या क्रय करने का समय उसकी आवश्यकता पर ही निर्भर करता है, परंतु ज्योतिष शास्त्र में भी इसके कुछ नियम बताए गए हैं। इस कड़ी में जानिए ऐसी कौन सी वस्तुएं हैं जो शनिवार को घर नहीं लानी चाहिए या इस दिन इन्हें नहीं खरीदना चाहिए।

यह भी पढ़ें :- आज के दिन आजमाएं ये उपाय, चमक जाएगी किस्‍मत

लोहे का सामान

भारतीय समाज में यह परंपरा लंबे समय से चली आ रही है कि शनिवार को लोहे का बना सामान नहीं खरीदना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि शनिवार को लोहे का सामान क्रय करने से शनि देव कुपित होते हैं।

यह भी पढ़ें :- घर में सुख-शांति बनायेंगे पूजा करने के ये तरीक़े

इस दिन लोहे से बनी चीजों के दान का विशेष महत्व है। लोहे का सामान दान करने से शनि देव की कोप दृष्टि निर्मल होती है और घाटे में चल रहा व्यापार मुनाफा देने लगता है। इसके अतिरिक्त शनि देव यंत्रों से होने वाली दुर्घटना से भी बचाते हैं।

यह भी पढ़ें :- शुक्रवार के दिन करें ये उपाय, दूर हो जायेंगे सारे दुख

यह चीज लाती है रोग

इस दिन तेल खरीदने से भी बचना चाहिए। हालांकि तेल का दान किया जा सकता है। काले श्वान को सरसों के तेल से बना हलुआ खिलाने से शनि की दशा टलती है। ज्योतिष के अनुसार, शनिवार को सरसों या किसी भी पदार्थ का तेल खरीदने से वह रोगकारी होता है।

यह भी पढ़ें :- आ रहा है नए साल का पहला ग्रहण

इससे आता है कर्ज

नमक हमारे भोजन का सबसे अहम हिस्सा है। अगर नमक खरीदना है तो बेहतर होगा शनिवार के बजाय किसी और दिन ही खरीदें। शनिवार को नमक खरीदने से यह उस घर पर कर्ज लाता है। साथ ही रोगकारी भी होता है।

यह भी पढ़ें :-  घर में इन तरीको से स्थापित करें शिवलिंग

कैंची लाती है रिश्तों में तनाव

कैंची ऐसी चीज है जो कपड़े, कागज आदि काटने में सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाती है। पुराने समय से ही कपड़े के कारोबारी, टेलर आदि शनिवार को नई कैंची नहीं खरीदते।

यह भी पढ़ें :- मां दुर्गा की चालीसा जाप से दूर होंगे दुख, बनेंगे बिगड़े काम

इसके पीछे यह मान्यता है कि इस दिन खरीदी गई कैंची रिश्तों में तनाव लाती है। इसलिए अगर आपको कैंची खरीदनी है तो किसी अन्य दिन खरीदें।

यह भी पढ़ें :- एक ख़ास वजह… सूर्यास्त के बाद क्यों नहीं लगानी चाहिए झाड़ू

काले तिल बनते हैं बाधा

सर्दियों में काले तिल शरीर को पुष्ट करते हैं। ये शीत से मुकाबला करने के लिए शरीर की गर्मी को बरकरार रखते हैं। पूजन में भी इनका उपयोग किया जाता है। शनि देव की दशा टालने के लिए काले तिल का दान और पीपल के वृक्ष पर भी काले तिल चढ़ाने का नियम है, लेकिन शनिवार को काले तिल कभी न खरीदें। कहा जाता है कि इस दिन काले तिल खरीदने से कार्यों में बाधा आती है।

यह भी पढ़ें :- घर को ऊर्जावान बनाने के कुछ आसान उपाय, जीवन होगा खुशहाल

काले जूते लाते हैं असफलता

शरीर के लिए जितने जरूरी वस्त्र हैं, उतने ही जूते भी। खासतौर से काले रंग के जूते पसंद करने वालों की तादाद आज भी काफी है। अगर आपको काले रंग के जूते खरीदने हैं तो शनिवार को न खरीदें। मान्यता है कि शनिवार को खरीदे गए काले जूते पहनने वाले को कार्य में असफलता दिलाते हैं।

यह भी पढ़ें :- बदलना चाहते हैं अपना भाग्य तो ये पेड़ करेंगे आपकी मदद

परिवार पर कष्ट

रसोई के लिए ईंधन, माचिस, केरोसीन आदि ज्वलनशील पदार्थ आवश्यक माने जाते हैं। भारतीय संस्कृति में अग्नि को देवता माना गया है और ईंधन की पवित्रता पर विशेष जोर दिया गया है लेकिन शनिवार को ईंधन खरीदना वर्जित है। कहा जाता है कि शनिवार को घर लाया गया ईंधन परिवार को कष्ट पहुंचाता है।

यह भी पढ़ें :- जानिए आखिर मंदिर में प्रवेश के दौरान घंटी बजाने के क्‍या हैं फायदे…

झाड़ू लाती है दरिद्रता

झाड़ू घर के विकारों को बुहार कर उसे निर्मल बनाती है। इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का आगमन होता है। झाड़ू खरीदने के लिए शनिवार को उपयुक्त नहीं माना जाता। शनिवार को झाड़ू घर लाने से दरिद्रता का आगमन होता है।

यह भी पढ़ें :- जानिए क्या है कम उम्र में बालों के सफेद होने का धार्मिक कारण

अनाज पीसने की चक्की

इसी प्रकार अनाज पीसने के लिए चक्की भी शनिवार को नहीं खरीदनी चाहिए। माना जाता है कि यह परिवार में तनाव लाती है और इसके आटे से बना भोजन रोगकारी होता है।

यह भी पढ़ें :- गलती से भी न चढाएं भगवान शिव को ये पांच चीजें

स्याही दिलाती है अपयश

विद्या मनुष्य को यश और प्रसिद्धि दिलाती है और उसे अभिव्यक्त करने का सबसे बड़ा माध्यम है कलम। कलम की ऊर्जा है स्याही। कागज, कलम और दवात आदि खरीदने के लिए सबसे श्रेष्ठ दिन गुरुवार है। शनिवार को स्याही न खरीदें। यह मनुष्य को अपयश का भागी बनाती है।

About Atul Katyayan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *