Monday , June 25 2018

शरद यादव के बाद अब देश का ये दिग्‍गज नेता भी आया लालू के साथ

पटना। बिहार में भले ही कुछ दिनों पहले एनडीए से गठबंधन वाली नीतीश सरकार बन गई हो, लेकिन अब नीतीश कुमार के साथ पीएम मोदी की मुश्किलें और भी ज्‍यादा बढ़ने की उम्‍मीद जताई जा रही है। दरअसल बिहार में राजनीतिक उठापटक के बाद अब देश के एक ऐसे नेता ने आरजेडी सुपीमो लालू प्रसाद यादव की तरफ हाथ बढ़ाया है जो हमेशा से ही पीएम मोदी के विरोधी माने जाते रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- युद्ध की उल्टी गिनती शुरू, चीन से निपटने के लिए पीएम मोदी ने खोल दी अपनी ‘तिजोरी’

ये नेता कोई और नहीं बल्कि एआईएमआईएम के चीफ असदुद्दीन ओवैसी हैं। ओवैसी ने आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की ओर दोस्ती का हाथ आगे बढ़ाया है। दरअसल आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव बीजेपी के खिलाफ पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में 27 अगस्त को एक रैली करने जा रहे हैं।

बताया जा रहा है कि लालू यादव ‘भाजपा भगाओ देश बचाओ’ के नारे को लेकर रैली करने जा रहे हैं। इसके लिए बीजेपी की तमाम विरोधी पार्टीयों को एक मंच पर लाने की कोशिश की जा रही है। वहीं ये कोशिश रंग लाती हुई भी दिख रही है, कई पार्टी के मुखिया इस पर अपनी सहमती जता चुके हैं।

यह भी पढ़ें :- ब्‍लॉग : क्या कोर्ट राज्यसभा की तीनों सीटों का चुनाव रद्द कर सकती है?

इसी को लेकर ही असदुद्दीन ओवैसी ने भी राजद सुप्रीमों की तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाया है। जानकारी के मुताबिक़, लालू प्रसाद की तरफ हाथ बढाते हुए ओवैसी ने कहा है कि लालू यादव इस लड़ाई को सांप्रदायिक ताकतों से अकेले नहीं लड़ सकते।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, उन्होंने कहा कि अगर सीमांचल को उसका अधिकार दिया जाए, बिहार के मुस्लिमों के जीवन में बदलाव लाया जाए तो उनकी पार्टी इस जंग में साथ देने को तैयार है।

यह भी पढ़ें :- मिल गई नई जिम्‍मेदारी, बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने दिया अपने ‘पद’ से इस्तीफा

आपको बता दें कि पिछले विधानसभा चुनाव में ओवैसी की पार्टी ने भी सीमांचल में अपने प्रत्‍याशी उतारे थे, हालांकि महागठबंधन के कारण उनके उम्मीदवारों को कोई खास सफलता हासिल नहीं हुई थी।

loading...